विज्ञान के चमत्कार पर निबंध | Vigyan Ke Chamatkar Essay in Hindi

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Vigyan Ke Chamatkar Par Nibandh):- विज्ञान एक ऐसा जरिया या माध्यम है जिसके द्वारा मानव ने प्रकृति समेत अन्य कारको से असीमित शक्तियां प्राप्त की है। विज्ञान की मदद से ही मनुष्य जीवन इतना अधिक विकसित हो पाया है। विज्ञान की मदद से आज के समय में मनुष्य जो चाहे, वह सब कुछ कर सकता है।

वह एक ग्रह से दूसरे ग्रह में जा सकता है। विज्ञान की मदद से मानव उड़ सकता है। गहरे पानी में सांस ले सकता है। विश्व के किसी भी कोने में वह किसी दूसरे व्यक्ति से फोन के माध्यम से बातचीत भी कर सकता है। इसके अलावा भी विज्ञान बहुत कुछ कर सकता है।

मनुष्य जिन चीजों के बारे में सोच सकता है, वह सभी विज्ञान के द्वारा सम्भव है। आज के समय में विज्ञान मानव के लिए किसी चमत्कार से कम नहीं है। विज्ञान के अनेकों चमत्कार है। आज इस लेख में हम आपको विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Essay on Vigyan Ke Chamatkar) बताने जा रहे है। अगर आप विद्यालय में पढ़ाई करते है और अध्यापक ने आपको “विज्ञान के चमत्कार” पर निबंध लिखने को कहा है।

लेकिन आपको विज्ञान के चमत्कार (Vigyan Ke Chamatkar Par Nibandh) पर निबंध के बारे में कुछ भी नहीं पता है तो चिंता करने की कोई बात नहीं है। क्योंकि इस लेख में हम विज्ञान के चमत्कार पर पूरा निबंध आपके लिए लेकर आये है। तो चलिए शुरू करते है:- विज्ञान के चमत्कार पर निबंध।

अनुक्रम

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Vigyan ke Chamatkar Essay in Hindi)

प्रस्तावना (Preface)

प्रकृति के क्रमबद्ध अध्ययन का ज्ञान ही विज्ञान कहलाता है। विज्ञान के दो प्रकार है। उदाहरणतः – प्राकृतिक विज्ञान और जीवन विज्ञान। विज्ञान के इन प्रकारों की भी तीन शाखाएँ है। जैसे:- भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान। ये सभी मानव को किसी घटना के कारण व परिणाम से अवगत कराते है। विज्ञान मानव के लिए किसी रामबाण से कम नहीं है।

विज्ञान के चमत्कार, लाभ व उपहार (Miracles, Benefits & Gift of Science)

मानव जीवन ने विज्ञान को विभिन्न प्रकार से लाभ पहुंचाया है। विज्ञान के द्वारा मानव विश्व में किसी भी जगह पर बहुत ही कम समय में आ तथा जा सकता है। यहाँ नीचे बहुत से ऐसे विभिन्न प्रकार के लाभों के बारे में बताया गया है। जो कि विज्ञान ने मानव को पहुंचाए है।

विधुत (Electricity):-

मानव जीवन को विज्ञान ने विधुत के रूप में एक नायाब उपहार दिया है। जो कि मनुष्य के लिए बहुत अधिक महत्वपूर्ण व हितकारी है। विधुत मानव के लिए अधिक महत्वपूर्ण इसलिए है, क्योंकि विधुत के कारण ही हमारें घर रोशन है और जिस उपकरण के द्वारा आप इस लेख को पढ़ रहे है, वह उपकरण भी विधुत के बिना व्यर्थ ही है।

अपितु आज के समय इंसान जितने भी उपकरणों का प्रयोग अपने दैनिक जीवन में करता हैं। उनमें से अधिकतर उपकरण विधुत की सहायता से चलते है। इसके अतिरिक्त अस्पताल, अद्यौगिक क्षेत्र, विद्यालय, बैंक, कार्पोरेट सेक्टर समेत आदि सभी विभागों में विधुत का महत्वपूर्ण योगदान है। इसलिए विधुत मानव जाति को विज्ञान का महत्वपूर्ण उपहार है।

यातायात व परिवहन (Traffic & Transportation):-

प्राचीन काल में मानव को एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करने में बहुत अधिक दिनों का समय लग जाता था। किन्तु आज विज्ञान के दौर में मानव हजारों मीलों तक का सफर कुछ ही घंटों में पूरा कर लेता है। मानव जीवन को यह सब कुछ विज्ञान की देन है।

इसके साथ ही साइकिल, मोटर साईकिल, रिक्शा, कार, बस, रेलगाड़ी तथा हवाई जहाज आदि का अविष्कार भी विज्ञान की ही उपज है। मानव जाति को यह मानना ही पड़ेगा कि आज उनके विकास का सम्पूर्ण श्रेय विज्ञान को ही जाता है। अन्यथा विज्ञान के बिना आज हम इस संसार की कल्पना भी नहीं कर सकते है।

कृषि विकास (Agricultural Development):-

विज्ञान ने मानव जाति को हर क्षेत्र में विकसित किया है। इसी प्रकार से कृषि में उपज की गुणवत्ता तथा मात्रा में वृद्धि आदि भी विज्ञान की ही उपयोगी देन है।

इसके अतिरिक्त, कृषि में फसल कटाई की मशीन, खेत की जुताई करने के लिए ट्रैक्टर, फसल बौने के लिए उन्नत बीज, भूमि को उपजाऊ बनाये रखने के लिए खाद्य आदि भी विज्ञान के द्वारा ही सम्भव हो पाया है। मानव जाति अपने विकास के लिए विज्ञान का कर्ज़ कभी भी नहीं चुका सकती है।

प्राकृतिक आपदा से सुरक्षा व बचाव (Protection & Prevention From Natural Disaster):-

एक प्रकार से प्राकृतिक आपदाओं पर कोई भी विजय प्राप्त नहीं कर सकता है। परन्तु विज्ञान ने मानव जाति को कुछ ऐसे अविष्कार भेंट दिए है, जिनकी मदद से हम किसी भी प्रकार की आपदाओं के बारे में पहले से ही संकेत प्राप्त कर सकते है और उससे होने वाले विनाश की कुछ हद तक रोकथाम कर सकते है।

जिससे जन-धन की कम हानि होगी। उदहारण के तौर पर सिस्मोग्राफ यंत्र। सिस्मोग्राफ एक भूक्मपमापी यंत्र है। जिसके द्वारा भूकंप किस जगह पर आने वाला है, उस जगह का पता बड़ी ही आसानी से लगाया जा सकता है। सिस्मोग्राफ भूकंप की तीव्रता को रिक्टर स्केल के माध्यम मापता है।

इसके अलावा विज्ञान का एक चमत्कार और है। जिसका नाम एनीमोमीटर तथा डॉप्लर रडार है। यह यंत्र चक्रवात तथा तूफान को मापता हैं। इस यंत्र के द्वारा प्राकृतिक आपदाओं की गति का अनुमान लगाया जाता है। विज्ञान का चमत्कार ही कुछ ऐसा है कि हम उसके बिना अधूरे है।

विज्ञान के दुष्प्रभाव व अभिशाप (Side Effects & Curse of Science)

हर किसी चीज के दो पहलु होते है। एक पहलु से अगर अच्छा है तो दूसरा पहला सदैव बुरा ही होगा। यही बात विज्ञान पर भी लागू होती है। विज्ञान ने मानव जीवन को विकसित तो किया है। विज्ञान के इस उपहार को मानव कभी भी नहीं भूल सकता है।

लेकिन विकास के साथ-साथ विज्ञान ने मानव जीवन को अभिशाप भी दिए है, जो कि सम्पूर्ण मानव जाति के लिए विनाशकारी है। विज्ञान द्वारा मानव जाति को दिए सभी अभिशापों का उल्लेख नीचे दिया गया है।

परमाणु हथियारों का खतरा (Nuclear Weapons Threat)

विज्ञान द्वारा मानव जाति प्राप्त यह अभिशाप सबसे विनाशकारी है। विज्ञान की देन ‘रॉकेट बम मिसाइल’ तथा ‘परमाणु शक्ति’ हैं। ये परमाणु हथियार खतरें व संकट की स्थिति में मानव जाति के लिए उपयुक्त है। लेकिन इनकी निरंतर बढ़ती संख्या विश्व और मानव जाति के लिए एक बहुत ही विशाल खतरा है।

आतंकवाद इन परमाणु हथियारों के माध्यम से सम्पूर्ण विश्व पर विशाल खतरा बनाया हुआ है। इसके साथ ही परमाणु शक्ति भी विश्व में अशांति का संकेत हैं। परमाणु शक्ति विश्व के लिए सबसे खतरनाक संकट है, जिसका कोई तोड़ नहीं है।

परमाणु हथियारों से विनाश यह विश्व पहले ही देख चुका है। उस समय तो परमाणु हथियार इतने अधिक विकसित भी नहीं हुए थे। इसके बावजूद उस समय इतना अधिक विनाश हुआ था कि आज तक उस विनाश की भरपाई नहीं हो पाई है।

द्वितीय विश्व युद्द के समय 6 अगस्त सन 1945 की सुबह अमेरीकी वायु सेना ने जापान के हिरोशिमा शहर पर “लिटिल बॉय” नाम का परमाणु बम गिराया तथा इसके तीन दिन बाद नागासाकी पर “फैट मैन” नाम का परमाणु बम गिराया।

इन परमाणु हथियारों का दुष्परिणाम आज भी वहां दिखाई देता है। परमाणु शक्ति से सम्पूर्ण विश्व परिचित है। इसलिए परमाणु हथियारों के प्रयोग के लिए यह प्रावधान है कि पाँच देशों के अनुमति के बिना कोई भी देश परमाणु हथियारों का प्रयोग नहीं कर सकता है।

प्रदूषण के कारण मौसम में बदलाव (Weather Changes Due to Pollution)

विज्ञान के इस विश्व को विकास के उच्च आयाम पहुंचा दिया है। लेकिन विश्व में विज्ञान के माध्यम से प्रदुषण भी उतनी ही तीव्र गति से बढ़ रहा है। जैसे – कारखानों से निकला गैस वायुमंडल की हवा को दुषित करता है। जीवाश्म के ईंधन के निरंतर जलने से यह पर्यावरण पर अपना अनुचित प्रभाव डाल रहा है।

जिस वजह से ठण्ड के समय में दक्षिण एशिया पर इसका प्रभाव हम साफ तौर पर देख सकते हैं। जहाँ अनुमानित समय से अधिक समय तक दूर-दूर तक धुंध फ़ैली हुई होती है। इस प्रकार से विज्ञान मानव जाति के लिए लाभकारी होने के साथ-साथ विनाशकारी भी है।

बेरोजगारी (Unemployment)

विज्ञान का मानव जाति को दिया हुआ यह सबसे भयंकर अभिशाप साबित हो रहा है। पहले जो कार्य मानव पूर्ण करता था। आज के समय में वही कार्य यंत्र और मशीनें पूर्ण कर देती है। जिस वजह से अनेक व्यक्तियों का सम्पूर्ण कार्य सिर्फ एक मशीन ही पूर्ण कर देती है।

इसलिए बड़े-बड़े उद्योग 100 मजदूरों के स्थान पर एक मशीन का ही उपयोग कर रहे है। इसके फलस्वरूप लोगों को काम नहीं मिल रहा है और कारणवश बेरोजगारी फ़ैल रही है। इसलिए विज्ञान के फायदे के साथ-साथ मानव जाति को दुष्प्रभाव भी है।

स्वास्थ्य व वातावरण पर बुरा असर (Bad Effect on Health & Environment)

सम्पूर्ण विश्व विज्ञान का महत्त्व भली-भाँती से जानती है। इसके बावजूद विज्ञान ही उनके स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर डाल रही है। विज्ञान के सराहनीय अविष्कार, जो हमारे दैनिक जीवन को सरल बनाते हैं।

जैसे – कार, मोटर-साईकिल, फ्रिज आदि। इन उपकरणों से निकलने वाली हानिकारक गैस मनुष्य के स्वास्थ्य पर बहुत ही बुरा असर डालती हैं मनुष्य के स्वास्थ्य के साथ-साथ यह गैस वातावरण के लिए भी श्राप हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

मानव जीवन में विज्ञान की एक मुख्य भूमिका है। विज्ञान ने मानव जाति को उपहार के रूप में अनेक सुविधाएं प्रदान की है। जो कि विज्ञान के बिना कभी संभव भी नहीं थी।

इन सुविधाओं का उपयोग मानव अपने दैनिक जीवन के कार्यों को पूरा करने से लेकर प्रकृति के प्रकोप से स्वयं को सुरक्षित रखने तक करता है। अतः मानव जाति को विज्ञान के प्रति उदार होना चाहिए और मानव जीवन में विज्ञान की भूमिका को कभी नहीं भूलना चाहिए।

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध | Vigyan Ke Chamatkar Par Nibandh

विज्ञान के प्रकार (Types of Science)

विज्ञान के कुल 4 प्रकार है। आपको यहाँ नीचे की और विज्ञान के सभी प्रकारों के बारे में उनके उल्लेख के साथ बताया गया है।

  1. प्राकृतिक विज्ञान (Natural science)
  2. जीवन विज्ञान (Biology)
  3. सामाजिक विज्ञान (Social Science)
  4. औपचारिक विज्ञान (Formal Science)

प्राकृतिक विज्ञान (Natural science)

इसके अन्तर्गत प्राकृतिक और भौतिक दुनिया का व्यवस्थित ज्ञान प्राप्त होता है। प्राकृतिक विज्ञान में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और खगोल विज्ञान जैसे विषयों का अध्ययन किया जाता है। प्राकृतिक विज्ञान से संबंधित अन्य विज्ञान भी मौजूद है। जैसे- समुद्र विज्ञान, जीव विज्ञान, पारिस्थितिकी विज्ञान आदि।
  • भौतिक विज्ञान (Physics)

भौतिक विज्ञान, विज्ञान की एक बहुत विशाल शाखा है। कुछ विद्वानों के अनुसार भौतिक विज्ञान में उर्जा के रूपांतरण, द्रव के अवयवों तथा प्राकृतिक जगत और उसके आन्तरिक क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है। जैसे- स्थान, काल, गति, द्रव्य, विधुत, प्रकाश तथा ध्वनि आदि।
  • रसायन विज्ञान (Chemistry)

रसायन विज्ञान, विज्ञान की वह शाखा है जिसके अन्तर्गत पदार्थों के संगठन, संरचना, गुणों और रसायनिक अभिक्रिया के दौरान इनमें हुए परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है। जिसका शाब्दिक अर्थ है- रस+आयन मतलब रसों (द्रवों) का अध्ययन।
  • खगोल विज्ञान (Geography)

खगोल विज्ञान में अंतरिक्ष और अकाशीय पिंडों का अध्ययन किया जाता है।

जीवन विज्ञान (Biology)

जीवन विज्ञान में सभी प्रकार के जीव-जन्तु, पेड़- पौधे तथा प्राणियों का अध्ययन होता है। इससे संबंधित प्रमुख शाखाएं निम्नलिखित हैं।
  • जीव विज्ञान (Biology)

जीव विज्ञान में जीव, जीवन और जीवन की प्रक्रियाओं का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • वनस्पति विज्ञान (Botany)

वनस्पति विज्ञान में पेड़-पौधों से संबंधित प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाता हैं।
  • प्राणि विज्ञान (Zoology)

प्राणि विज्ञान के अन्तर्गत जानवरों से संबंधित प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाता हैं।

सामाजिक विज्ञान (Social Science)

विज्ञान के इस प्रकार में सामाजिक पद्धित तथा मानव व्यवहार का अध्ययन किया जाता है। सामजिक विज्ञान विभिन्न श्रेणीयों में विभक्त है।
  • इतिहास (History)

इतिहास के अन्तर्गत प्राचीन काल में घटित घटनाओं के इतिहास का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • राजनीति विज्ञान (Political Science)

इसके अंतर्गत सरकारी प्रणाली तथा राजनीतिक गतिविधियों का अध्ययन किया जाता है।
  • भूगोल विज्ञान (Geography Science)

भूगोल विज्ञान में पृथ्वी की भौतकि संरचना का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • अर्थशास्त्र (Economics)

अर्थशास्त्र में धन से सम्बंधित प्रक्रियाओं का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • सामाजिक अध्ययन (Social studies)

सामाजिक अध्ययन में मानव समाज का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • नागरिक शास्त्र (Sociology)

नागरिक शास्त्र में समाज के विकास तथा कार्यों की गतिविधि से सम्बंधित सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • मनोविज्ञान (Psychology)

इसके अंतर्गत मानव व्यवहार का का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • जाति विज्ञान (Anthropology)

जाति विज्ञान के अंतर्गत मानव के विभिन्न समाजिक पहलुओं का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।

औपचारिक विज्ञान (Formal science)

औपचारिक विज्ञान में औपचारिक प्रणाली का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है। जैसे- गणित और तर्क आदि।
  • गणित (Mathematics)

इस प्रकार के विज्ञान मेंअंकों का सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • तर्क (Reasoning)

तर्क विज्ञान में तर्क का अध्ययन सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है।
  • स्थिति-विज्ञान (Statics)

इस प्रकार के विज्ञान में संख्याओं के विश्लेशण से संबंधित सम्पूर्ण अध्ययन किया जाता है। इसी प्रकार सिस्टम सिद्धांत और समग्र विज्ञान आदि स्थिति विज्ञान के अन्तर्गत आते है।

अन्य लेख, इन्हें भी पढ़े:-

विश्व धर्म सम्मेलन, शिकागो में स्वामी विवेकानंद का भाषण

विज्ञान के चमत्कार से सम्बंधित प्रश्न (All Questions Related Vigyan Ke Chamatkar Essay in Hindi)

Vigyan Ke ChamatkarVigyan Ke Chamatkar Nibandh
Vigyan Ke Chamatkar Par NibandhVigyan Ke Chamatkar Essay in Hindi
Vigyan Ke Chamatkar in HindiVigyan Ke Chamatkar Essay
Vigyan Ke Chamatkar Nibandh in HindiVigyan Ke Chamatkar Hindi Mein
Essay on Vigyan Ke Chamatkar in HindiNibandh Vigyan Ke Chamatkar
Vigyan Ke Chamatkar Essay in Hindi 200 WordsVigyan Ke Chamatkar Essay in Hindi Class 10
Vigyan Ke Chamatkar HindiVigyan Ke Chamatkar Nibandh Hindi Mein
Hindi Nibandh Vigyan Ke ChamatkarVigyan Ke Chamatkar Essay in Hindi 100 Words
Vigyan Ke Chamatkar Hindi EssayVigyan Ke Chamatkar Hindi Me
Vigyan Ke Chamatkar Par QuotationNibandh Vigyan Ke Chamatkar in Hindi

अगर आपको आगे भी ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करनी है, तो आप हमारें इस ब्लॉग और फेसबुक पेज को follow कर सकते है। हम रोज़ाना नई-नई महत्वपूर्ण व रोचक जानकारियां आपके लिए लेकर आते रहते है।

Leave a Comment